रविवार, 4 मार्च 2012

प्रेरक प्रसंग–26 :बेटी से नाराज़ बापू

प्रेरक प्रसंग–26

प्रेरक प्रसंग – 1 : मानव सेवा, प्रेरक-प्रसंग-2 : सहूलियत का इस्तेमाल, प्रेरक प्रसंग-3 : ग़रीबों को याद कीजिए, प्रेरक प्रसंग-4 : प्रभावकारी अहिंसक शस्त्र, प्रेरक प्रसंग-5 : प्रेम और हमदर्दी, प्रेरक प्रसंग-6 : कष्ट का कोई अनुभव नहीं, प्रेरक प्रसंग-7 : छोटी-छोटी बातों का महत्व, प्रेरक प्रसंग-8 : फूलाहार से स्वागत, प्रेरक प्रसंग-९ : बापू का एक पाप, प्रेरक-प्रसंग-10 : परपीड़ा, प्रेरक प्रसंग-11 : नियम भंग कैसे करूं?, प्रेरक-प्रसंग-12 : स्वाद-इंद्रिय पर विजय, प्रेरक प्रसंग–13 : सौ सुधारकों का करती है काम अकेल..., प्रेरक प्रसंग-14 : जलती रेत पर नंगे पैर, प्रेरक प्रसंग-15 : वक़्त की पाबंदी,प्रेरक प्रसंग-16 : सफ़ाई – ज्ञान का प्रारंभ, प्रेरक प्रसंग-17 : नाम –गांधी, जाति – किसान, धंधा ..., प्रेरक प्रसंग-18 : बच्चों के साथ तैरने का आनंद, प्रेरक प्रसंग-19 : मल परीक्षा – बापू का आश्चर्यजनक..., प्रेरक प्रसंग–20 : चप्पल की मरम्मत, प्रेरक प्रसंग-21 : हर काम भगवान की पूजा,प्रेरक प्रसंग-22 : भूल का अनोखा प्रायश्चित, प्रेरक प्रसंग-23 कुर्ता क्यों नहीं पहनते? प्रेरक प्रसंग-24 : सेवामूर्ति बापू  प्रेरक प्रसंग-25 : आश्रम के नियमों का उल्लंघन

बेटी से नाराज़ बापू

प्रस्तुतकर्ता : मनोज कुमार

DSCN153811 वर्षीय एक दलित लड़की लक्ष्मी को बापू ने बेटी के रूप में अपनाया था। आश्रम में हर किसी के लिए सूत कताई की न्यूनतम मात्रा तय थी। प्रत्येक शाम की प्रार्थना सभा में दिनभर काते हुए सूत की मात्रा की घोषणा की जाती थी। उसे रजिस्टर में दर्ज़ किया जाता था। एक दिन यह पता लगा कि लक्ष्मी दूसरे के सूत चुराकर अपने काते गए सूत में मिला देती थी।

इस मामले पर बापू के कमरे में बैठक हुई। उस बैठक में आश्रम के प्रबंधक मगनलाल भाई, महादेव देसाई, देवदास गंधी और मीरा बहन उपस्थित थे। बापू नाराज़ से ज़्यादा उदास दिख रहे थे। फिर भी वे संयत थे। उन्होंने गंभीर आवाज़ में कहा, “इस लड़की के लिए हर चीज़ का त्याग कर सकता हूं। स्वराज का खेल गेंद के खेल जैसा है। कभी एक टीम जीतती है, तो कभी दूसरी। किसी की जीत-हार से कोई ख़ुशी या दुख नहीं होता, लेकिन मेरी संतान कोई ग़लत काम करती है, तो मेरा ख़ून सूख जाता है। लक्ष्मी मेरी पहली बेटी है। मैं उसे बहुत प्यार करता हूं। लेकिन वह मुझे निराश करती रही है। मैं सोच नहीं सकता कि वह ऐसा कैसे कर सकती है।”

मगनलाल गांधी ने बापू को सांत्वना देने की कोशिश करते हुए कहा, “बापू वह एक बच्ची है।”

बापू ने कहा, “इसीलिए बात और बुरी है। बड़े लोग अगर बुरा आचरण करें, तो मुझे उतना बुरा नहीं लगेगा। लेकिन बच्चे तो मासूम होते हैं। वे मेरा विश्वास तोड़ते हैं, तो मुझे पीड़ा होती है। लक्ष्मी! इतनी छोटी उम्र में पाप!”

कोई कुछ नहीं बोला। सभी बापू की आंखों में उभरी पीड़ा स्पष्ट देख रहे थे। बापू बोलते रहे, “पहले तो मुझे उसे छड़ी से पीटने का ख्याल आया। फिर मैंने सोचा कि उपवास पर चला जाऊं। लेकिन और विचार करने पर मैंने तय किया कि अगर मैं उपवास पर गया, तो आश्रम में माहौल बिगड़ेगा। इस लड़की के ख़िलाफ़ गुस्सा और भी बढ़ेगा। नहीं, मैं उपवास पर जाने की घोषणा नहीं कर सकता।”

बापू देवदास की तरफ़ मुड़े और बोले, “तुम्हारी बात वह मानती है। उसे यहां ले आओ।”

देवदास के जाने के बाद कमरे में ख़ामोशी छाई रही। वहां का वातावरण बोझिल था। ऐसा लग रहा था कि बापू किसी फैसले पर पहुंच गए हैं। बापू ने कहा, “मैं खुद उससे निबटूंगा। जब तक वह मेरी बात सुनती है और झूठ नहीं बोलती तब तक उम्मीद बाक़ी है। मुझे विश्वास है कि बुरे से बुरे बच्चे को भी अपने जैसा बना सकता हूं। अगर लक्ष्मी अच्छी नहीं बनती, तो मैं कैसे बन पाऊंगा? मुझे उसके तार से अपने तार जोड़ने ही होंगे। अगर वह बुरी बनी रहती है, तो मैं भी अपने हृदय की बुराई से पार नहीं पा सकूंगा।”

देवदास को उस लड़की की बांह पकड़कर ज़बरदस्ती बापू की कुटिया में लाना पड़ा। जब उसे उनके कमरे में लाया गया तब वह बुरी तरह डर गई थी। वह रोते हुए बापू के पैरों पर गिर पड़ी। “मुझे मारो मत। मैं फिर कभी ऐसा नहीं करूंगी।”

बापू ने ठंडी आवाज़ में कहा, “इधर आओ सीधी खड़ी हो जाओ।”

“क्या आप मुझे फिर दूधाभाई के पास भेजेंगे?”

“नहीं, मैं तुम्हें तुम्हारे पिता के पास नहीं भेजूंगा।” बापू ने कहा। उनका चेहरा नरम पड़ रहा था, “लेकिन तुम्हें क़सम खानी होगी कि फिर कभी झूठ नहीं बोलोगी और चोरी भी नहीं करोगी। तुम्हें चुराए गए सूत लौटाने होंगे। हर दिन ढ़ाई हजार।”

लक्ष्मी ने वैसा ही किया।

***

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बहुत बधाई -
    शुभकामनायें ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा है यह प्रसंग!
    रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. यहाँ बापू का कठोर रूप देखने को मिलता है...शायद लक्ष्मी को सुधारने के लिये ही उन्हें ऐसा करना पड़ा, वैसे तो बापू बच्चों को बहुत चाहते थे.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनुशासित जीवन जीना इतना आसान भी नहीं होता ....कड़े निर्णय ...सख्ती ...तभी इंसान भीड़ काबू में कर सकता है ....
    प्रेरक प्रसंग...

    उत्तर देंहटाएं
  6. ye sach hai bachey maar sey nahi pyaar sey baat manatey hai,bahut hi acha ho yadi bachey ka vikas mar-petai sey door prem key vatavaran mein ho,aaj aisey vatavaran ki sakht jarurat hai

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह!
    आपके इस प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 05-03-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  8. देवदास के जाने के बाद कमरे में ख़ामोशी छाई रही। वहां का वातावरण बोझिल था। ऐसा लग रहा था कि बापू किसी फैसले पर पहुंच गए हैं। बापू ने कहा, “मैं खुद उससे निबटूंगा। जब तक वह मेरी बात सुनती है और झूठ नहीं बोलती तब तक उम्मीद बाक़ी है। मुझे विश्वास है कि बुरे से बुरे बच्चे को भी अपने जैसा बना सकता हूं। अगर लक्ष्मी अच्छी नहीं बनती, तो मैं कैसे बन पाऊंगा? मुझे उसके तार से अपने तार जोड़ने ही होंगे। अगर वह बुरी बनी रहती है, तो मैं भी अपने हृदय की बुराई से पार नहीं पा सकूंगा।”

    उपर्युक्त के आलोक में बापू के स्वभाव का परिचय मिलता है । वे "लक्ष्मी" को यह समझाना चाहते थे कि उसे भविष्य में ऐसा कार्य नही करना चाहिए । इसके साथ-साथ मेरे मन में यह विचार कौंधता है कि बापू एक सफल बैरिस्टर (BAR -AT- LAW) थे एवं शायद उनके मन में यह विचार भी आय़ा होगा कि - No one should be condemned unheard because it forms the basic tenets and fabric of principle of Natural justice.. अच्छी जानकारी मिली । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस प्रसंग से हमलोग भी सीख ले सकते हैं ....सार्थक पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं

आप अपने सुझाव और मूल्यांकन से हमारा मार्गदर्शन करें